किताब: भारत में आर्थिक तबाही

पिछले साढ़े चार वर्षों में, देश एक बड़ी सामाजिक-राजनीतिक और आर्थिक उथल-पुथल से गुजरा है जैसा पहले कभी नहीं था। हाल के इतिहास में कभी भी एक साथ देश के इतने बड़े समूह को...

विशेष रिपोर्ट: एनटीपीसी का कड़वा सच

नेशनल थर्मल पाॅवर काॅरपोरेशन (एनटीपीसी) भारत के चार ‘‘नवरत्नों‘‘ में से एक होने के साथ, एक “फार्च्यून 500” कंपनी भी है। भारत के विकास में एनटीपीसी ने चार दशकों से ऊपर एक अहम् भूमिका...

बुकलेट: तीसरे चरण के बाद दिल्ली मेट्रो का वित्तीय विश्लेषण

कैंब्रिज के अर्थशास्त्री, हा-जून चांग का मानना है कि ‘अर्थशास्त्र का 95 प्रतिशत सिर्फ सामान्य समझ है, जिसे गणित और भारी-भरकम शब्दावली का प्रयोग करके मुश्किल बनाया जाता है।’ इससे हम समझ सकते हैं...