किताब: भारत में आर्थिक तबाही

पिछले साढ़े चार वर्षों में, देश एक बड़ी सामाजिक-राजनीतिक और आर्थिक उथल-पुथल से गुजरा है जैसा पहले कभी नहीं था। हाल के इतिहास में कभी भी एक साथ देश के इतने बड़े समूह को...

विश्वबैंक जैसे अंतरराष्ट्रीय संगठनों से टकराते जनांदोलन 

विश्वयुद्ध के बाद ब्रिटेन के ब्रेटेनवुड में खादी की गई वैश्विक वित्तीय संस्थाओं की ताक़त एक ज़माने में बेतेरह बढ़ी थी। वे अपनी मनमर्ज़ी के विकास की अवधारणा को दुनियाभर पर थोप सकती थीं।...

आम चुनाव में सभी उम्मीदवारों से मप्र के जन आंदोलनों की मांगे और संकल्प

आम चुनाव में सभी उम्मीदवारों से मप्र के जन आंदोलनों की मांगे और संकल्प मध्यप्रदेश जन संघर्ष समन्वय समिती 4-5, आप्रैल 2019, युथ होस्टल, जबलपुर आगामी आम चुनाव के संदर्भ में, 4-5 अप्रैल 2019...