भुखमरी की चपेट में दुनिया | हमारा पैसा हमारा हिसाब

पूरी दुनिया खाद्य संकट से जूझ रही है। अगले साल खाद्य उत्पादन में और भी कमी आने की आशंका है। यानि की खाद्य सामग्रियों की कीमतें बढ़ जाएंगी। मुक्त व्यापार पर आधारित अंतर्राष्ट्रीय संधियों...

वापस आया बिजली संशोधन बिल | हमारा पैसा हमारा हिसाब

किसानों के लंबे आंदोलन की वजह से बिजली बिल को वापस ले लिया गया था। लेकिन अब सरकार इसे पार्लियामेंट के अगले सत्र में वापस लाना चाहती है।

स्मितु कोठारी फ़ेलोशिप 2022

सेंटर फॉर फाइनेंशियल अकॉउंटेबिलिटी दिल्ली में स्थित एक संस्था है, जो भारत में वित्तीय जवाबदेही को मज़बूत करने और इसे बेहतर करने के लिये काम करती है। सेंटर फॉर फाइनेंशियल अकॉउंटेबिलिटी स्मितु कोठारी फ़ेलोशिप...

दलित- आदिवासियों के नज़रिए से बजट का विश्लेषण

केंद्रीय बजट 2020-21 के आने के बाद से ही इसपर चर्चाओं का सिलसिला शुरू हो गया है।  दलित आदिवासी शक्ति अधिकार  मंच (दशम),  डॉ. अंबेडकर कोऑपरेटिव फेडरेशन, जन आंदोलनोंका राष्ट्रीय समन्वय (एन ए पी एम) ने  दलित, आदिवासियों  और सफाई कर्मचारियों...