Sharing is caring!

एनर्जी सेक्टर स्निपेट- अक्टूबर 2020

पावर सेक्टर निजीकरण के विरोध पर उत्तर प्रदेश मे एक अस्थाई सफलता

अप्रैल 2020 से, बिजली संशोधन विधेयक 2020 के प्रस्तावित मसौदे के खिलाफ बिजली क्षेत्र की ट्रेड यूनियन देश भर में विरोध प्रदर्शन कर रही हैं। इस मसौदे को संसद से अभी मंजूरी मिलनी बाकी है। लेकिन, उत्तर प्रदेश सरकार अपनी एक डिस्कॉम कंपनी, पूर्वांचल विद्युत निगम लिमिटेड के निजीकरण का प्रस्ताव पहले ही रख दिया। परिणामस्वरूप, अक्टूबर में यूपी की ट्रेड यूनियनों ने अपना विरोध ओर तेज कर दिया। निजीकरण का विरोध करने के लिए 15 लाख से अधिक कर्मचारी दो दिनों के लिए अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए। जिसके कारण पूरे राज्य में अधेरें का सामना करना पडा। इसने राजधानी लखनऊ को भी बड़ा झटका दिया। आखिरकार, राज्य सरकार को उनकी मांगों से सहमत होना पडा और बिजली वितरण कंपनियों के निजीकरण की योजना को स्थगित किया गया। अगले साल मार्च तक पूर्वांचल बिजली उपयोगिता के निजीकरण को स्थगित करने के लिए राज्य के बिजली मंत्री और यूपी पावर कर्मचारी संघर्ष समिति के बीच एक समझौते पर हस्ताक्षर किए गए। हालांकि, यूपी पावर कॉर्प लिमिटेड के अध्यक्ष ने इस समझौते पर हस्ताक्षर करने से इनकार कर दिया, जिसके कारण डिस्कॉम कर्मचारियों ने विरोध प्रदर्शन जारी रखा।

केंद्र सरकार द्वारा मानक बोली दस्तावेजों में हंडबडी

इस बीच, केंद्र राज्यो को डिस्कॉम कंपनियों के निजीकरण के लिए मजबूर कर रहा है। सरकार ने पहले ही एक मानक बोली दस्तावेज का मसौदा तैयार कर लिया है। एसबीडी में कई व्यावहारिक कमीयाॅ हैं। राज्य की डिस्कॉम कंपनियों ने विभिन्न टैरिफ दरों पर अलग-अलग समय के लिए कई बिजली स्रोतों के कई पीपीए पर हस्ताक्षर किए। यूपी सरकार ने 26,000 मेगावाट पीपीए पर हस्ताक्षर किए हैं, लेकिन सभी डिस्कॉम का औसत भार लगभग 14,000 मेगावाट है। जैसे यूपी की 85 फीसदी बिजली थर्मल से आती है, 12 फीसदी अक्षय से और बाकी हाइड्रो और न्यूक्लियर से। सरकार इन मुद्दों से कैसे निपटेगी। कई कानूनी पहलू भी गायब हैं। उनमें से एक विद्युत अधिनियम 2003 की धारा 17 (3) के तहत बिक्री, पट्टे या विनिमय से पहले आयोग से पूर्व अनुमोदन लेना है। लेकिन यह एसबीडी की रूपरेखा से पूरी तरह से नदारद है।

जियो का स्मार्ट मीटरिंग व्यवसाय में प्रवेश

इसके अतिरिक्त, भारत बिजली क्षेत्र में स्मार्ट मीटरिंग कार्यक्रम बढा़ रहा है और यह दुनिया में सबसे बड़ा है। स्मार्ट मीटर इंटरनेट आधारित उपकरण है। इसे डिजिटल रूप से नियंत्रित किया जा सकता है। रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड ने हाल ही में घोषणा की है कि वह स्मार्ट मीटरिंग व्यवसाय में प्रवेश करेगा। इसकी सहायक कंपनी, जियो प्लेटफॉर्म ने डिस्कॉम कंपनियों को बिजली मीटर डेटा, संचार कार्ड, और दूरसंचार और मेजबान सेवा को नियंत्रित करने के लिए कई अरबो का सौदों किया हैं। अब  जियो केवल टेलीकॉम जगत तक ही सीमित नहीं है, इसने जियो सिनेमा से जियो पेमेंट बैंक तक सभी डिजिटल इकोसिस्टम बाजार में प्रवेश कर लिया है। केंद्रीय वित्त मंत्री ने इस साल के बजट भाषण के दौरान पहले ही इसके लिए जमीन तैयार करदी है। वित्त मंत्री ने अगले तीन वर्षों में सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को पारंपरिक प्रीपेड मीटरों को स्मार्ट प्रीपेड मीटरों से बदलने की घोषणा की। यह रिलायंस, अडानी, जैसे बड़े कॉरपोरेट्स के लिए एडवांस मीटरिंग इंफ्रास्ट्रक्चर (एएमआई) व्यापार का बाजार खोलने के लिए ही घोषणा थी।

एनटीपीसी ने अपने खर्च के लिए जेबीआईसी ली मदद

एनटीपीसी ने हाल ही में 3,500 करोड़ रुपये के ऋण के लिए जापान बैंक फॉर इंटरनेशनल कोऑपरेशन (जेबीआईसी) के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं। समझौते के अनुसार, जेबीआईसी ऋण राशि का 60 प्रतिशत प्रदान करेगा। शेष राशि जेबीआईसी की गारंटी के तहत वाणिज्यिक बैंकों द्वारा जैसे सुमितोमो मित्सुई बैंकिंग कॉर्पोरेशन, बैंक ऑफ योकोहामा, सैन-इन गोडो बैंक, जॉयो बैंक और नंटो बैंक द्वारा विस्तारित किया जाएगा। ऋण जेबीआईसी की ग्लोबल एक्शन फॉर रीकॉन्सिलिंग इकोनॉमिक ग्रोथ एंड एनवायरनमेंट प्रोटेक्शन (जीआरईई) की सुविधा के तहत विदेशी मुद्रा में होगा। भारत में जेबीआईसी के ग्रीन ऑपरेशन के तहत एनटीपीसी के लिए यह पहला ऋण है। कंपनी द्वारा ऋण का उपयोग थर्मल पावर प्लांट्स के फ्ल्यू गैस डिसल्फराइजेशन (एफजीडी) और नवीकरणीय ऊर्जा परियोजनाओं के खर्च के लिए किया जाएगा।

एनटीपीसी की योजना अपने पावर प्लांट के भीतर इंडस्ट्री हब बनाने की

इसके अलावा, एनटीपीसी ने भारत भर में बिजली संयंत्रों के निर्माण के नाम पर हजारों एकड़ भूमि का अधिग्रहण किया है। लेकिन यह हमेशा से अधिक पकड़ लिया है कि यह प्रत्येक संयंत्र का निर्माण करने के लिए क्या आवश्यक था। नतीजतन, हजारों लोग अपनी भूमि और आजीविका से विस्थापित होने के लिए मजबूर हो गए। अब, ये भूमि खाली पड़ी हैं। अब एनटीपीसी ने अपने बिजली संयंत्रों के भीतर एक विशाल भूमि बैंक खोल दिया है। कंपनी अपने बिजली संयंत्रों के भीतर इस भूमि पर एक विनिर्माण औद्योगिक पार्क बनाने की योजना बना रही है। यहां तक कि, इसने एमएसएमई और अन्य भारतीय कंपनियों से ब्याज की अभिव्यक्ति को आमंत्रित किया है। यह ऊर्जा-गहन विनिर्माण संयंत्र स्थापित करने की योजना बना रहा है। यह अपने संयंत्र के भीतर अमोनिया, यूरिया, जिप्सम, जियोपॉलिमर, कूलिंग और हीटिंग सॉल्यूशंस, सिरेमिक, टाइल्स, पॉटरी, ईंट और ग्लास जैसे एल्यूमीनियम और खनिज प्रसंस्करण जैसे थोक रासायनिक हब बनाने की भी योजना बना रहा है। पायलट प्रोजेक्ट गाडरवारा और सोलापुर पावर प्लांट में विकसित करने जा रहे हैं। एनटीपीसी भूमि, पानी, बिजली और अन्य बुनियादी सुविधाओं की व्यवस्था करेगा।

भारत में कोयला से हर साल एक लाख से ज्यादा लोगों की मौत

नीदरलैंड की एक प्रकाशन कंपनी एल्सेवियर ने पारिस्थितिक अर्थशास्त्र में एक अध्ययन प्रकाशित किया। जिसमें पाया गया कि कोयला भारत में हर साल एक लाख से अधिक लोगों को मार रहा है। कोयले से होने वाला वायु प्रदूषण समयपूर्व मृत्यु दर का एक मुख्य कारण है। कोयले पर भारत की निर्भरता अन्य देशो (प्रति वर्ष 6 प्रतिशत) की तुलना में तेजी से बढ़ रही है। कोयले की खनन दोगुना हो गया है। कोयला खनन क्षेत्रों के आसपास रहने वाले मजदूरों और लोगों को कोयले की धूल और प्रदूषित पानी पीने के लिए मजबूर है। इसके अलावा, खनन दुर्घटनाएं भी हजारों लोगों की जान ले रही हैं। भारत की सभी कोयला खदानों में 2001 से 2014 तक 7,000 से अधिक दुर्घटनाएँ दर्ज की गईं। इसके अलावा ऐसे हादसों में 2015 से 2017 तक 200 से अधिक कोयला खनिकों ने अपनी जान गंवाई है। लेखकों ने सवाल किया कि ऊर्जा के नवीकरणीय स्रोतों में वृद्धि के बावजूद, भारत कोयले पर निर्भर है। भारत में ऊर्जा उत्पादन के स्रोतों के रूप में पनबिजली और परमाणु दोनों को बढ़ावा दिया जा रहा है, और दोनों सामाजिक-पारिस्थितिक न्याय आंदोलनों में परिणत होते हैं। हम लेख में तर्क देते हैं कि कोई परिर्वतन नहीं है, बल्कि विभिन्न ऊर्जा स्रोतों मे एक नया स्त्रोत जुड गया है, और बढती नवीकरणीय ऊर्जा और जलवायु संकट के बयान के बावजूद, कोयला ऊर्जा मिश्रण पर हावी है, लेखक ब्रोटी रॉय ने कहा, यूनिवर्सिटैट ऑटोनोमा डे बार्सिलोना।

डेवलपमेन्ट बैंक जलवायु वित्त के नाम पर दे रही गैर-रियायती ऋण

एक अन्य रिपोर्ट ऑक्सफैम द्वारा प्रकाशित क्लामेट फाइनेंस शैडों में पाया गया कि जलवायु वित्त एक अनदेखा घोटाला है। जलवायु वित्त के नाम पर, दुनिया के सबसे गरीब देशों और समुदायों को ऋण और गैर-रियायती वित्त लेने के लिए मजबूर किया जा रहा है। 2017-18 में, सार्वजनिक जलवायु वित्त का अधिकांश हिस्सा लिस्ट डेवलप्ड कंट्रीज और लगभग आधा जलवायु वित्त स्माल आइलैंड डेवलपिंग स्टेट को गया है। सार्वजनिक जलवायु वित्त का लगभग 40 प्रतिशत गैर-रियायती ऋण और वित्त है। यह गरीब देशों पर अनावश्यक ऋण और निरंतर बोझ को बढ़ा रहा है। डेवलपमेंट बैंकों (एमडीबी) ने 25 बिलियन डॉलर का वित्त पोषण किया है जो कुल रिपोर्ट किए गए सार्वजनिक वित्त का 40 प्रतिशत से अधिक है। यह प्रति वर्ष 100 बिलियन डाॅलर के लक्ष्य के लिए जलवायु वित्त का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। हालांकि, एमडीबी और द्विपक्षीय जलवायु वित्त ने इस प्रक्रिया में पारदर्शिता और जवाबदेही की अनदेखी की है। द्विपक्षीय जलवायु वित्त के साथ, एमडीबी को गरीब देशों के लिए जलवायु वित्तपोषण में पारदर्शी और जवाबदेह होना चाहिए।


विश्व बैंक का जीवाश्म ईंधन परियोजनाओं मे निवेश के खिलाफ एक अभियान

विश्व बैंक ने अपनी वार्षिक बैठक को अक्टूबर 2020 में आभसी रूप से आयोजित की। सोशल मीडिया अभियानों के माध्यम से सिविल सोसाइटीज ने दुनिया भर में विभिन्न देशों ने जीवाश्म ईंधन में विश्व बैंक के निवेश की निंदा की। इस बीच, भारतीय सीएसओ ने भी सोशल मीडिया के माध्यम से विश्व बैंक के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। विश्व बैंक के बिना दुनिया के नाम से अभियान चलाया। उरगेवल्ड के शोध ने यह भी साबित किया कि पेरिस समझौते के बाद से, डब्ल्यूबीजी ने जीवाश्म ईंधन में 12 बिलियन डालर से अधिक का निवेश किया। उसमे 10.5 बिलियन डालर के नए प्रत्यक्ष जीवाश्म ईंधन परियोजना वित्त हैं। इसने 11 प्रकार के कार्यों को वित्त पोषण किया है। विश्व बैंक समूह ने तीन परिचालन के तहत भारत को भी वित्त पोषण किया है। जिसमें अपस्ट्रीम तेल और गैस की खोज, तरलीकृत प्राकृतिक गैस (एलएनजी) प्रसंस्करण और एलएनजी-टू-पावर, और गैस भंडारण और वितरण शामिल हैं। यह दर्शाता है कि विश्व बैंक भारत में कोयले के बजाय तेल और गैस में निवेश करने के लिए अपनी रणनीतियों को बदल रहा है।

यह देखा गया है कि सरकार ने निजी कंपनियों के लिए बिजली क्षेत्र के प्रत्येक अनुभाग को खोलने का निर्णय लिया है। सरकार राज्यो को डिस्कॉम के निजीकरण के लिए मजबूर कर रही है। बिजली क्षेत्र की यूनियनें और श्रमिक अभी भी इसका पुरजोर विरोध कर रहे हैं और निजीकरण के खिलाफ देश भर में केंद्र को कड़ी टक्कर दे रहे हैं। भारतीय बिजली कंपनी, एनटीपीसी न केवल कोयले से हरित ऊर्जा में बदलाव कर रही है, बल्कि इसके बिजली संयंत्र के भीतर एक विनिर्माण उद्योग केंद्र बनाने की भी योजना है। एनटीपीसी के संयंत्रों में दुर्घटनाओं के इतिहास को देखते हुए, इसके संयंत्र के भीतर एक रासायनिक केंद्र बनाने का प्रस्ताव इसके आसपास रहने वाले श्रमिकों और समुदायों के लिए अत्यधिक खतरनाक होगा। भारत दुनिया में तीसरा सबसे बड़ा नवीकरणीय ऊर्जा उत्पादक होने के बावजूद भारत में कोयले का बोलबाला है। यह हर साल एक लाख से अधिक लोगों को मार रहा है। महामारी के बावजूद, अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय संस्थान भारत में ऊर्जा क्षेत्र का वित्तपोषण जारी रखते हैं। जलवायु वित्त के नाम पर, वे देशों को ऋण और गैर-रियायती वित्त प्रदान कर रहे हैं। विश्व बैंक भारत में कोयले के बजाय तेल और गैस में निवेश कर रहा है। भारत में जलवायु वित्त और निवेशों पर बहुत बारीकी से नजर रखने की जरूरत है।

Help us in
* Demystifying finance to common people
* Making financial institutions transparent and accountable
* Spreading financial literacy programmes

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*