भारत में कई वर्षों से असमानता बढ़ती जा रही है। कुछ ऐतिहासिक कारकों और वर्तमान नीतियों के कारण उत्पन्न धन के इस संकेंद्रण पर अगर ध्यान नहीं दिया गया तो यह कई लोगों के जीवन को तबाह करता रहेगा।. एक न्यायपूर्ण कर प्रणाली इस असमानता को कम कर सकती है।यह विवरणिका आपको धन असमानता से जुड़े मुद्दों और भारतीय संदर्भ में इसके संभावित समाधानों के बारे में बताएगी।

कोरोना महामारी के बाद से, इस धन असमानता को दूर करने में विश्व स्तर पर रुचि बढ़ी है। कोलंबिया, बोलीविया, अर्जेंटीना और स्पेन ने संपत्ति कर लागू किया है और यहां तक कि अमेरिका और ब्रिटेन में कई समूहों ने भी इसकी वकालत की है। लेकिन इससे भारत की कर प्रणाली में ज़्यादा सुधार नहीं आया है।

रिपोर्ट यहां पढ़ें और डाउनलोड करें: न्यायोचित कराधान

Read this in Bengali here.

Read this in English here.

Read this Malayalam here.