विश्वबैंक जैसे अंतरराष्ट्रीय संगठनों से टकराते जनांदोलन 

विश्वयुद्ध के बाद ब्रिटेन के ब्रेटेनवुड में खादी की गई वैश्विक वित्तीय संस्थाओं की ताक़त एक ज़माने में बेतेरह बढ़ी थी। वे अपनी मनमर्ज़ी के विकास की अवधारणा को दुनियाभर पर थोप सकती थीं।...

विशेष रिपोर्ट: एनटीपीसी का कड़वा सच

नेशनल थर्मल पाॅवर काॅरपोरेशन (एनटीपीसी) भारत के चार ‘‘नवरत्नों‘‘ में से एक होने के साथ, एक “फार्च्यून 500” कंपनी भी है। भारत के विकास में एनटीपीसी ने चार दशकों से ऊपर एक अहम् भूमिका...